नाम: दाखा बाई, पति: बजरंग लाल

जाति: गाड़िया-लुहार

ग्राम पंचायत: सुल्तानपुर

जिला: कोटा

दाखा बाई 10-12 सालों से यहाँ रह रही है. पहले पंचायत के पीछे नापा रोड पर वॉर्ड नं. 11 में रहती थी. फिर सड़क के किनारे आना पड़ा, अब वहीं रह रही है. दाखा बाई के 7 बच्चे है, सभी की शादी कर दी है. पर एक बेटी, घैसी, को पति ने छोड़ दिया. उसकी दो बेटियाॅं और दाखा बाई का छोटा बेटा साथ रह रहे हैं.

दाखा बाई के पास BPL  का राशन कार्ड है, राशन भी मिल रहा है पर कई बार आवेदन करने के बाद भी उन्हें अभी तक घर बनाने के लिए ज़मीन का पट्टा नहीं मिल पाया है. सड़क के किनारे झोपड़ी बनाकर रह रही है.

दाखा बाई और उसके परिवार ने सारे कार्ड बनवा दिए. भामाशाह कार्ड पंचायत से अभी नही दिया गया. दाखा बाई ने बताया की जब वोट डालना होता है तो गाड़ी में बैठाकर ले जातें हैं और वापस भी नहीं छोड़ते हैं.

दाखा बाई की बेटी कई सालों से पीहर में रह रही है. पोतियों के नाम आँगनवाड़ी में भी नही लिखा है. उसकी बेटी को विधवा पेंशन भी नहीं मिल रही और उसका राशन कार्ड भी APL  में है. उसे राशन भी नहीं मिल रहा है. दाखा बाई ने राजस्थान पोर्टल में अपने ज़मीन का पट्टा लेने हेतु शिकायत दर्ज करवाई.