जवाबदेहि यात्रा के 73 वें दिन जिला मुख्यालय सीकर में सभा की गयी,तथा शिकायत शिविर रखा गया |
कोमरेड अमराराम ने जवाबदेहि यात्रा का क्रन्तिकारी स्वागत किया उन्होंने कहा सरकार गेंहू समुन्द्र में
बहा रही है लेकिन गरीबो को नही दे रही है | देश को सरकार ने दो भागो में बांट दिया है ग़रीब और
अमीर |

पी एम ने पिछले 25 साल से विदेशी कंपनियों को 5,73000 करोड़ रुपये की टैक्स में छूट दी है इन पैसो
से भारत की 87% जमीन सिंचित हो सकती है | इन पैसो से देश की समस्त नदियों से खेती की सिचाई
की जा सकती है जिसका खर्चा मात्र 3 करोड़ आएगा | परन्तु सरकार द्वारा ऐसा कोई कदम नही उठाया
गया है |

रामचन्द्र भारतीय किसान यूनियन के साथी ने कहा गाय के नाम पर सरकार राजनीति कर रही है जबकि
गाय मजदुर व किसान पालते है |

शेतान सिंह जी ने बंजारा बस्ती की समस्याएं बताई जिनमे –
1. 1000 बच्चे शिक्षा से वंचित है उनके लिए स्कूल नहीं है|
2. 75 परिवारों को पट्टे व राशन कार्ड नही है |
3. 60 लोगो को वृद्धा पेंशन नहीं दी जा रही है जबकि उनके सभी कागज़ बने हुए है |
4. कच्ची बस्ती में केंद्र सरकार की तरफ से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बस्ती से डेढ़ किलोमीटर में बना
है किसी को पता तक नही है |
5. 77 परिवारों की इसे नाम की लिस्ट है जिनका नाम खाद्य सुरक्षा सूचि में आना चाहिए पर उनके
राशन कार्ड नहीं बनाये जा रहे है उन सभी के पास वोटर कार्ड है पर राशन कार्ड नही |
6. 24 बच्चे विकलांग है और डॉक्टर विकलांग सर्टिफिकेट नहीं बना रहे है |
7. बंजर बस्ती के लोगो ने बताया की वे सन 1989 से आवास कर रहे है और नगर परिषद् ने कच्ची
बस्ती में रहने के लिए आवासीय भूखंड का वर्ष 2003 में टोकन दिए गये और भूखंड पर हमारा
कब्ज़ा है फिर भी अभी तक हमें कोई पट्टा नही दिया गया है |

ऐसी समस्याओं की शेतान सिंह जी ने बंजारा बस्ती में जाकर 75 नामो की फाईले बनायीं तथा जब कलेक्टर साहब को इनकी समस्याएं पेश की गयी तो उनका कहना था हम तो इन्हें यंहा से निकालने की सोच रहे है, आप क्यों इनको खाद्य सुरक्षा से जुडवाने में लगे है और सुविधाओं से भी |