दिनांक 18/06/2015 से मालपुर के बारोलिया गाँव में बहुत कम लोगों को राशन मिल रहा है. मालपुर में मीणा जाति के लोग अधिक रहते हैं जो के तहत होते हुए खाद्य सुरक्षा की सूची में आने चाहिए.

आदिवासी, मीणा, कालबेलिया, घुमन्तु, जातियों के लोगों के पास यदि APL का राशन कार्ड हुआ तो भी वे सब खाद्य सुरक्षा की सूची में सम्मिलित होने चाहिए. उन्हें हर महिने नियमित राशन मिलना चाहिए.

इनके पास राशन कार्ड होते हुए भी राशन के लिए इस ऑफीस से उस ऑफीस भटकते फिर रहे हैं. कोई भी अधिकारी इनकी सुनवाई नहीं कर रहे हैं.

सरकारी योजनाओं की पूरी तरह नहीं होने से भी ये लोग हमेशा पीछे रह जाते हैं. यदि सरकारी योजनाओं के बारे में उन्हें समझाया जाए तो इन सभी की समस्याओं का निवारण हो सकता है. किस समय कौनसा फॉर्म भरा जाता है? उससे क्या लाभ मिलता है? ये अगर बताया जाए तो वे सभी अपनी आर्थिक स्थिति में कुछ सुधार ला सकते हैं.